Monday, March 28, 2011

नींद तुम्हारी



आँखों में हो  
किसे बसाये 
नींद को जो 
न आई नींद. 

सपना है  या 
कोई हकीकत 
जिसने चुराई 
तुम्हारी नींद 

नजरों में उनको 
भर लेते 
आँखों ही से 
कुछ कह देते 

नींद बावरी 
रही भटकती 
बांहों में तनिक 
भर लेते 

रात रह गई 
संग तुम्हारे 
भर दी खुमारी 
अंग तुम्हारे 

उसने सुन ली 
दिल की धड़कन
बढ़ गई है 
उसकी उलझन 

करवट बदल 
यह सोच रही 
किस ओर चलूँ  
पथ खोज रही 

नींद तुम्हारी 
मीठी मीठी 
आएगी फिर 
सपने लेकर

करना उसका 
इन्तजार 
आँखों में भरना 
बार बार .   

15 comments:

  1. pyari si nind...........aaj hi bulata hoon:)

    ReplyDelete
  2. अरे वाह!
    प्यारी सी निंदिया पर बहुत ही प्यारी रचना लिखी है आपने!

    ReplyDelete
  3. वाह!! बेहतरीन.

    ReplyDelete
  4. करवट बदल
    यह सोच रही
    किस ओर चलूँ
    पथ खोज रही
    bahut badhiyaa

    ReplyDelete
  5. कौन नहीं चाहेगा ऐसी नींद का आना और नहीं भी आना .... कोमल कोमल सी कविता

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  7. उसने सुन ली
    दिल की धड़कन
    बढ़ गई है
    उसकी उलझन sunder kavita...

    ReplyDelete
  8. ..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    ReplyDelete
  9. कौन नहीं चाहेगा ऐसी नींद का आना........बहुत सुंदर भाव युक्त कविता

    ReplyDelete
  10. इंतज़ार भरी आँखों में नींद कहाँ आएगी ...
    सुन्दर गीत !

    ReplyDelete
  11. आदरणीय रामपति जी आपकी इस सोफ्ट सी कविता को पढ़कर मुझे सर फिलिप सिडनी की के कविता याद आ रही है... नींद के जो आयाम आपने दिए हैं उनसे अलग नींद के आयाम उनमे है.. यह कविता पढ़कर आपको अपनी कविता पुनः लिखने का मन करेगा... पढ़िए....
    SLEEP
    Sir Philip Sidney

    Come, Sleep; O Sleep! the certain knot of peace.
    The baiting-place of wit, the balm of woe,
    The poor man's wealth, the prisoner's release,
    Th' indifferent judge between the high and low;
    With shield of proof shield me from out the prease
    Of those fierce darts Despair at me doth throw:
    O make in me those civil wars to cease;
    I will good tribute pay, if thou do so.
    Take thou of me smooth pillows, sweetest bed,
    A chamber deaf to noise and blind of light,
    A rosy garland and a weary head;
    And if these things, as being thine by right,
    Move not thy heavy grace, thou shalt in me,
    Livelier than elsewhere, Stella's image see.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  13. bhaut badiya madam je, apne kiske liye apne neend ko gawa dia

    ReplyDelete